1/26/2012

26 जनवरी स्‍पेशल: क्रांति कैसे आएगी...

संबोधनों पर न जाएं, जो बात कही जा रही है उसमें वज़न है। गणतंत्र दिवस पर इस किस्‍म के प्रेरणादायक भाषण सुनना बहुत ज़रूरी है। शॉट फिल्‍म 'गुलाल' से है।


video

2 टिप्‍पणियां:

विकल्प-मंच परिवार ने कहा…

कहाँ प्रेरणा तलाश रहे हैं आप? विवेकहीन पल्लवग्राहिता.

Manees Pandey ने कहा…


एक संत
की गिरफ्तारी
क्योँ?
माया के फेर
मेँ तो सभी हैँ
आखिर गुनाह
क्या है?
गोपियोँ संग
सतसंग
ही तो क्या/
किसी को
तंग भी न किया/
फिर भी
पुलिस वाले
क्योँ चले आये,
मुँह उठाये?
संत ने
गुल्ली डंडे के
खेल सिखाया।
40 लक्ष गुरुदक्षिणा
कमाया/
किसी का अगूँठा
तो नहीँ माँगा/
आप तो अरबो
हजम करते हो
बिना डकारे /
संत की गिरफ्तारी
संत समाज
बर्दास्त कर लेगा/
क्योँकि संत समाज
मानता है कि
'श्री संत न
छोड़े संतई
कोटिक
मिले असंत'/

मनीस पाण्डेय